कूरियर सर्विस का बिजनेस कैसे शुरू करें? यहां जानें, कूरियर सेवा की जानकारी, कूरियर बिजनेस के लिए आवश्यक लाइसेंस और पंजीकरण
कूरियर सर्विस का बिजनेस कैसे शुरू करें? यहां जानें, कूरियर सेवा की जानकारी

courier service business in hindi: आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का चलन काफी बढ़ गया है। लोग दुकान में जाकर सामान खरीदने से ज्यादा ऑनलाइन शॉपिंग करना पसंद करते हैं। अमेजॉन, फ्लिपकार्ट, मीशो जैसी शॉपिंग साइट से लोग अपने पसंदीदा चीजों को देखकर आर्डर करते हैं, जबकि इन सामानों को आप तक पहुंचाने का काम कूरियर कंपनियां करती है। चूंकि सामानों की डिलीवरी के लिए कूरियर सर्विस का होना बहुत जरूरी है। इसके लिए आप भी कूरियर सर्विस का काम करके अच्छी कमाई कर सकते हैं। 


कूरियर सर्विस बिजनेस (courier service business) के शुरुआती दौर में थोड़ा ज्यादा लागत तो लगानी पड़ती है। लेकिन आजकल ऑनलाइन शॉपिंग और कूरियर सर्विस की बढ़ती उपयोगिता को देखते हुए यह बिजनेस काफी अच्छा विकल्प है।


तो आइए, द रुरल इंडिया के इस ब्लॉग में जानें- कूरियर बिजनेस क्या है? और कूरियर सर्विस का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start a courier Business in india)


आप इस ब्लॉग में जानेंगे-

  • कूरियर सर्विस में स्कोप

  • कूरियर सर्विस का काम कैसे शुरू करें

  • कूरियर सर्विस सेंटर के प्रकार

  • भारत के कुछ कूरियर सर्विस कंपनियों के नाम

  • कूरियर सर्विस के लिए सही लोकेशन

  • कुरियर सर्विस बिजनेस के लिए आवश्यक पंजीकरण और लाइसेंस

  • कुरियर सर्विस लेने के लिए जरूरी बिंदु

  • कोरियर सर्विस को अमेजॉन और फ्लिपकार्ट से जोड़ने का तरीका

  • कूरियर व्यवसाय के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • कुरियर बिजनेस में लागत

  • कोरियर सर्विस से होने वाला मुनाफा


कोरियर सर्विस में स्कोप (Scope in Courier Service)


भारत में कई कंपनियां ग्राहकों को कूरियर सेवा प्रदान करती है। कूरियर सेवा के अंतर्गत कंपनी अपने ग्राहकों को आवश्यक दस्तावेज और सामानों को उनके द्वारा दिए गए पते पर पहुंच जाती है। इसके बदले कूरियर कंपनी को पैसे मिलते हैं। 


भारत में ऑनलाइन शॉपिंग के चलन को देखते हुए आपा इसका अंदाजा लगा सकते हैं कि इसमें कितने स्कोप है। इसके अलावा आप चाहे तो किसी कूरियर कंपनी में सामान पहुंचाने का भी काम कर सकते हैं। अगर आप खुद ही कोरियर कंपनी सर्विस खोलना चाहते हैं तो आप लोगों को रोजगार देने में भी सहायक हो सकते हैं।


कोरियर सर्विस का काम कैसे शुरू करें? (how to start courier service business)


आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का चलन गांव हो या शहर हर जगह चलने लगा है। इसलिए यह बिजनेस आप कहीं भी करेंगे तो यह फायदेमंद ही साबित होगा। क्योंकि इस बिजनेस की शुरुआत करने के लिए आप किसी बड़े वेबसाइट या छोटे वेबसाइट से टाइप करके उनका सामान डिलीवरी करने की जिम्मेदारी ले सकते हैं। इस काम की शुरुआत के लिए आपको पहले किसी कोरियर सर्विस कंपनी से प्रशिक्षण ले लेना चाहिए। 


कोरियर सर्विस सेंटर के प्रकार

  • घरेलू 

  • राष्ट्रीय

  •  अंतरराष्ट्रीय


भारत के कूरियर सर्विस कंपनियां (Courier Service Companies in India)

  • ब्लू डर्ट एक्सप्रेस लिमिटेड

  • डीएचएल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड

  • फर्स्ट फ्लाइट कूरियर लिमिटेड

  • डीटीडीसी कूरियर एंड कार्गो लिमिटेड

  • टीएनटी एक्सप्रेस

  • फेडेक्स इंडिया

  • गति लिमिटेड

  • ट्रैक ओन कोरियर एंड प्राइवेट लिमिटेड

  • ओवरनाइट कुरियर प्राइवेट लिमिटेड


कूरियर सर्विस के लिए लोकेशन


कोरियर सर्विस का बिजनेस शुरू करने से पहले आपको कोरियर सर्विस ऑफिस खोलने के लिए सही जगह का चुनाव कर लेना चाहिए। इस काम के लिए आपको लगभग एक बड़े कमरे जितनी जगह की जरूरत पड़ सकती है। अगर यह जगह आपके पास निजी तौर पर उपलब्ध है तो यह बहुत ही अच्छी बात है। नहीं तो आपको एक कमरा किराए पर लेना पड़ेगा। पहले काम इतने से ही शुरू करें। उसके बाद फ्रेंचाइजी पाने की कोशिश करें। इस काम में आने के लिए आपको एक इंटरनेट कनेक्टेड कंप्यूटर और टेलीफोन की भी आवश्यकता पड़ेगी।


कूरियर बिजनेस के लिए आवश्यक लाइसेंस और पंजीकरण (License and Registration Required for Courier Business)


हर बिजनेस की तरह आपको कुरियर सर्विस का बिजनेस शुरू करने के लिए भी कुछ जरूरी लाइसेंस और पंजीकरण करवाने की आवश्यकता पड़ेगी। आपको कूरियर सर्विस के पंजीकरण के लिए नगर निगम में जाकर कुछ आवेदन फॉर्म भरने होंगे। और आवश्यक दस्तावेजों को जमा करना पड़ेगा। इसके अलावा आपको जीएसटी पंजीकरण करवाना पड़ेगा। जो आप अपने नजदीकी जीएसटी सेवा केंद्र से जाकर करवा सकते हैं।


कुरियर सर्विस लेने के लिए जरूरी चीजें

  • सबसे पहले आपको कोरियर सर्विस की रूपरेखा तय कर लेना चाहिए कि आप किस तरह की सर्विस देने के लिए आवेदन करना चाहते हैं।

  • चुने गए कुरियर के प्रकार के हिसाब से आपको शुल्क का भुगतान करना पड़ेगा।

  • फॉर्म भरने से पहले नगर पालिका के पास जाकर इसकी पूरी जानकारी ले लें।

  •  उसके बाद ही लाइसेंस की आवेदन प्रक्रिया शुरू करें।

  • अगर आप पार्टनरशिप में यह बिजनेस करना चाहते हैं तो अपने पाटनर की भी जानकारी आवेदन फॉर्म में भरे। यह जानकारी आपके पार्टनर के उपस्थिति में भरना  जरूरी है।

  • उसके बाद कंपनी की बीमा पॉलिसी को जानकर संकट प्रबंधन के लिए बीमा भी करवा दें।

  • फॉर्म में अपने कोरियर सर्विस कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों की भी पूरी जानकारी दें।


कोरियर सर्विस को अमेजॉन और फ्लिपकार्ट से जोड़ने का तरीका


अमेजॉन और फ्लिपकार्ट दोनों ही बहुत बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है। जिससे लोग ऑनलाइन शॉपिंग करके अपना सामान मंगवाते हैं तो आप भी चाहे तो अपनी कुरियर व्यवसाय को फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसी बड़ी कंपनी से जुड़कर खुद का व्यवसाय बढ़ा सकते हैं। और मुनाफा कमा सकते हैं। इसके लिए आपको फ्लिपकार्ट और अमेजन के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर अपने कूरियर सर्विस कंपनी के नाम को रजिस्टर्ड करना होगा।


कूरियर व्यवसाय के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • व्यक्ति की पहचान पत्र वोटर आईडी, आधार कार्ड इनमें से कोई एक

  • एड्रेस प्रूफ के लिए इलेक्ट्रिक बिल, बैंक पासबुक, राशन कार्ड

  • टेलीफोन नंबर और ईमेल आईडी

  • जीएसटी नंबर (GST Number)

  • मालिकाना हक का सत्यापन प्रमाण पत्र

  • एनओसी यानी नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट


कूरियर बिजनेस में लागत


कुरियर सर्विस शुरुआत करना महंगा तो है लेकिन इतना भी नहीं जिसके लिए बहुत ज्यादा सोचना पड़े। आप इसकी शुरुआत 50 हजार से लेकर दो लाख के अंदर कर सकते हैं। कोरियर सर्विस के बिजनेस में लागत लगाने के बाद इस पर भी निर्भर करती है। कि आप किस कंपनी का फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं। हर कंपनी अपना अलग-अलग शुल्क रखती है। तो इसके लिए पहले से योजना बनाने की आप किस कंपनी से टाइअप करके उसकी फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं। उसके बाद ही लागत लगाएं।


कोरियर सर्विस बिजनेस से होने वाला मुनाफा


जहां तक हम इस बिजनेस में होने वाले मुनाफे की बात करें तो 20 से 35 हजार तक का मुनाफा तो होना आम बात है। लेकिन अगर आप फ्लिपकार्ट, अमेजॉन जैसी बड़ी साइटों से जुड़कर इस व्यवसाय को करना चाहते हैं। तो आपको कंपनी कमीशन के आधार पर फायदा देती है। आप एक दिन में जितने ज्यादा सामान डिलीवर करेंगे आपको उतना ही ज्यादा कमीशन भी मिलेगा।


ये तो थी, कूरियर सर्विस का बिजनेस कैसे शुरू करें (how to start courier service business)? और कूरियर सेवा की जानकारी। यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो अन्य लेख जरूर पढ़ें। दूसरों को भी पढ़ने के लिए शेयर करें।


ये भी पढ़ें- 

Axact

Contribute to The Rural India (Click Now)

हम बड़े मीडिया हाउस की तरह वित्त पोषित नहीं है। ऐसे में हमें आर्थिक सहायता की ज़रूरत है। आप हमारी रिपोर्टिंग और लेखन के लिए यहां क्लिक कर सहयोग करें।🙏

Post A Comment:

0 comments: