पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें? | How to start a water plant business | मिनिरल वॉटर बिजनेस, आरो पानी का बिजनेस
पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें? | How to start a water plant business |

Water plant business in hindi: "जल ही जीवन है" यह तो सभी ने सुना ही होगा। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जल (water) हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है। सुबह उठने से रात के सोने तक न जाने कितनी बार हम लोग पानी का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन कई बार दूषित पानी का सेवन करने से टाइफाइड डायरिया जैसी बीमारियों का संक्रमण हो जाता है। इसलिए लोगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए आरो (RO) का प्रचलन बढ़ता जा रहा है। लेकिन हर किसी के बस की बात नहीं है कि वह अपने घर में आरओ प्लांट लगवाए। घर के बाहर भी आरो पानी खरीदना पड़ता है। अगर आपके पास भी कुछ पैसे हैं। 


ऐसे में पानी का बिजनेस (mineral water plant business) आजकल बहुत ही ट्रेंडिंग बिजनेस है। यदि आप भी आरो पानी का बिजनेस या आरो प्लांट लगाकर पानी का व्यापार करना चाहते हैं तो यह बिजनेस आपके लिए कमाई और रोजगार का अच्छा साधन बन सकता है। 


तो आइए, द रुरल इंडिया के इस ब्लॉग में जानें- पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to start a water plant business)


आप इस ब्लॉग में जानेंगे- 

  • पानी के बिजनेस में स्कोप

  • पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें

  • पानी के बिजनेस के लिए जगह का चुनाव

  • वाटर प्यूरीफायर प्लांट के लिए जरूरी चीजें

  • मिनिरल वॉटर बिजनेस के लिए लाइसेंस

  • आरो प्लांट के लाइसेंस कहां से लें

  • मिनिरल वॉटर बिजनेस में लागत

  • आरो प्लांट के लिए लोन

  • मिनिरल वॉटर बिजनेस में मुनाफा


पानी के बिजनेस में स्कोप (Scope in water business)

आपको बता दें कि मानव शरीर की 70% संरचना पानी से ही हुई है। इसलिए सभी को साफ पानी ही पीना चाहिए। क्योंकि जल है तो कल है। अगर हम साफ पानी पीते हैं तो हमें कोई भी बीमारी जल्दी नहीं होती है। ऐसे में सभी लोग अब साफ पानी पर ही निर्भर हैं। 


अगर आप खुद ही आरो के पानी के सप्लायर बनना चाहते हैं तो बहुत अच्छी बात है। आप प्यूरीफायर प्लांट लगाकर खुद का पानी सप्लाई कर सकते हैं। लेकिन अगर आपके पास पैसे नहीं है तो आप किसी आरो सप्लायर से पानी खरीद कर भी अपने आसपास के लोगों को बेच सकते हैं। पानी के बिजनेस में वाटर पैकिंग से लेकर मार्केटिंग तक ढेरों स्कोप है। 


पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें (pani ka business kaise kare)

आप दो तरह से पानी का बिजनेस शुरू कर सकते हैं 

  1. पहला वॉटर प्यूरीफायर प्लांट लगाकर

  2. दूसरा वाटर बोतल डिस्ट्रीब्यूटर बन कर


अगर आप वाटर प्यूरीफायर प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको अच्छे खासे जगह की जरूरत पड़ती है। इसमें ज्यादा लागत भी लगाने की आवश्यकता होती है। तो सोच समझकर ही वाटर प्यूरीफायर प्लांट लगाने के बारे में सोचें।


अगर बात हम वाटर बोतल डिस्ट्रीब्यूटर की करें तो इसमें आपको ज्यादा लागत लगाने की जरूरत नहीं पड़ती है। आपको किसी ऐसे व्यक्ति से संपर्क करना चाहिए। जिसने वाटर प्यूरीफायर प्लांट लगाया हो। आप उनके प्लांट से पानी लेकर डिसटीब्यूट कर सकते हैं। इसमें आपका कुछ प्रतिशत कमीशन होता है। हालांकि इसमें लागत कम होती है तो मुनाफा भी कम होता है।


पानी के बिजनेस के लिए जगह का चुनाव

अगर आप वॉटर प्यूरीफायर प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको एक बड़े कमरे जितनी जगह की आवश्यकता होगी। जहां पर पानी को स्टोर करने के लिए बड़े-बड़े कंटेनर रखने की जगह और वॉटर प्यूरीफायर प्लांट यानी आरो मशीन और अन्य चीजें रखने की जगह भी होनी चाहिए। वाटर प्यूरीफायर प्लांट ऐसी जगह पर लगाएं। जहां पर पर्याप्त बिजली रहती हो।


वाटर प्यूरीफायर प्लांट के लिए जरूरी चीजें

  • वाटर टैंक (सिंटेक्स)

  • फिल्टर की मशीनें जैसे सैंड फिल्टर, कार्बन फिल्टर, क्लोरीन फिल्टर, और  वाटर फिल्टर

  • वाटर प्यूरीफायर मशीन

  • फिल्टर हुए पानी को रखने के लिए जार

  • फिल्टर मशीनों में इस्तेमाल होने वाले लिक्विड

  • मोटर

  • पाइप

  • अन्य हार्डवेयर के सामान


मिनिरल वॉटर के बिजनेस के लिए लाइसेंस

अगर आप मिनिरल वॉटर का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आपको भी कुछ आवश्यक लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होगी। सबसे पहले आपको छोटे स्तर पर एक इंडस्ट्रियल सर्टिफिकेट की आवश्यकता होगी। इसके लिए AOA और MOA के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इसके अलावा पानी को टेस्ट करने के लिए एक लेबोरेटरी की भी जरूरत होती है। इसके लिए आपको खाद्य विभाग से परमिशन लेना होगा। इसके अलावा भारतीय मानक से IOS का लाइसेंस भी लेना जरूरी होता है। इसके लिए बीआईएस पर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। भारत में पैकेजिंग ड्रिंकिंग वाटर के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य है। इसे आप अपने राज्य सरकार से भी ले सकते हैं।


RO प्लांट के लाइसेंस कहां से लें

अगर आप आरो प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स नई दिल्ली में रजिस्ट्रेशन करके मिनरल वाटर प्लांट के लिए लाइसेंस लिया जा सकता है। रजिस्ट्रेशन के बाद ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड के अधिकारी सभी जरूरी नमूने की जांच करते हैं। फिर आरो प्लांट लगाने की अनुमति दे देते हैं। 


इसके बाद जिला खाद्य विभाग में आवेदन करना होता है। औषधीय प्रशासन विभाग भौतिक जांच करने के बाद वाटर प्लाट के लिए लाइसेंस देते है। लेकिन इसके पहले मशीनों के गुणवत्ता पानी की गुणवत्ता की जांच की जाती है। इसके अलावा नगर निगम से एनओसी लेना भी जरूरी है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से भी अनुमति लेना अनिवार्य है। अगर आप इस बिजनेस में श्रमिकों की मदद लेते हैं। तो इसके लिए आपको श्रम विभाग में भी पंजीकरण करवाना होगा।


मिनिरल वॉटर बिजनेस के लिए लागत

अगर आप मात्र पानी की सप्लाई करना चाहते हैं तो आपको ज्यादा लागत लगाने की जरूरत नहीं पड़ती है। मात्र आपको आपके आने जाने का खर्चा रखना होता है। लेकिन अगर आप खुद का आरो प्लांट लगाकर बिजनेस करना चाहते हैं तो आपको इसमें लगभग मशीन खरीदने में ही लगभग डेढ़ से दो लाख रुपये लग जाते हैं। इसके अलावा अन्य चीजों को खरीदने में भी पैसे लगते हैं तो आपको लगभग 5 से 6 लाख का इंतजाम करने के बाद ही आरो प्लांट लगाकर पानी का बिजनेस करने के बारे में सोचना चाहिए।


RO प्लांट के लिए लोन 

पानी का बिजनेस करने के लिए और आरो का पानी लगाने के लिए सरकारी और गैर सरकारी किसी भी बैंक से आप लोन के लिए आवेदन कर सकते है। कोई भी बैंक  आपको आप के RO प्लांट के प्रोजेक्ट के अप्रूवल हो जाने के बाद 10 लाख तक का लोन दे सकता है।


पानी के बिजनेस में मुनाफा (profit in water business)

तो अगर आप पानी का बिजनेस करते हैं तो आपको बेहिसाब मुनाफा हो सकता है। क्योंकि पानी एक ऐसी चीज है। जिसके बिना कोई जी ही नहीं सकता है। तो अगर आप ही बिजनेस करते हैं तो भला आपको फायदा कैसे नहीं हो सकता है।


ये तो थी, पानी का बिजनेस कैसे शुरू करें? (mineral water plant business plan in hindi) की बात। यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो अन्य लेख जरूर पढ़ें और दूसरों को भी पढ़ने के लिए शेयर करें।


ये भी पढ़ें- 


Axact

Contribute to The Rural India (Click Now)

हम बड़े मीडिया हाउस की तरह वित्त पोषित नहीं है। ऐसे में हमें आर्थिक सहायता की ज़रूरत है। आप हमारी रिपोर्टिंग और लेखन के लिए यहां क्लिक कर सहयोग करें।🙏

Post A Comment:

0 comments: